अच्छे दिनो की शुरूआत का हुआ आगाज- दिलराज,अभाविप ने भ्रष्टाचार के विरुद्ध यूथ अगेंस्ट करप्शन के माध्यम से उठाई थी आवाज

कटनी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में 500 एवं 1000 के नोटों को बंद करने के ऐतिहासिक फैसले का स्वागत करते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा कहा गया कि प्रधानमंत्री की यह पहल भ्रष्टाचार के खिलाफ एक आगाज है। अभाविप के जिला सह संयोजक दिलराज अमर सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा उटाया गया यह कदम अच्छे दिनों की शुरूआत की ओर इशारा करने जैसा है। दिलराज अमर सिंह ने बताया कि 500 एवं 1000 के नोटों को बंद करने के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् ने भ्रस्टाचार के विरुद्ध यूथ अगेंस्ट करप्शन के माध्यम से आवाज उठाई थी। अभाविप ने भ्रस्टाचार पर रोक लगाने की हमेशा मांग की थी जिसमे काला धन एक बड़ा मुद्दा था। इसी मुद्दे जिसको लेकर अभाविप ने पूर्व में 2011 से लगातार देश भर में कई बड़े आंदोलन भी किए थे। देश में भ्रष्टाचार और कला धन जैसी बीमारियों ने अपना जड़ जमा लिया है और देश से गरीबी हटाने में ये सबसे बड़ी बाधा है। कौन ईमानदार नागरिक ऐसा होगा जिसे अफ सरों के घर, बिस्तर के नीचे या जगह-जगह करोड़ों रुपए पाए जाने की खबर मिले और वह दुखी ना हो। ऐसे भारतीय जिनके रगो में ईमानदारी दौड़ती है जो यह सोचते हैं कि भ्रष्टाचार, कालाधन, आतंकवाद, जाली नोटों के खिलाफ  एक निर्णायक कार्रवाई की जरूरत है। हो सकता है अभी इसमें देश वासियों को परेशानी हो लेकिन भविष्य में इसके परिणाम सुखद होंगे। प्रधानमंत्री का यह ऐतिहासिक निर्णय काला धन रखने वालो की जड़ों को हिलाने का काम कर रहा है यह कहना गलत नहीं होगा। आज देश की मुद्रा व्यवस्था का हाल यह है कि मुद्रा का 80 से 90 प्रतिशत 500 और 1000 रुपए के नोटों में समाहित है। देश को भ्रष्टाचार और कालाधन के दीमक से मुक्त कराने के लिए सख्त कदम उठाने का वक्त आ गया है। 2014 में देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह चरमराई हुई थी लेकिन सभी के सहयोग और भरोसे से आज विश्व में भारत ने अपनी चमकती उपस्थिति दर्ज कराई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भ्रष्टाचार और कालाधन पर रोक लगाने के लिए मंगलवार को कड़ा कदम उठाने के साथ ही देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि 500 और 1000 रुपए के नोट बंद हो जाएंगे लेकिन इस पर घबराने की जरूरत नहीं है आपका पैसा आपका ही रहेगा और निर्धारित अवधि तक आप अपने 500 या 1000 हजार के  नोट बैंकों में जाकर बदल सकते हैं। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार, काला धन हमारे देश के लिए बीमारी की तरह है तो वहीं आतंकवाद और जाली नोट देश को तबाह कर रहे हैं जिसे ध्यान में रखते हुए निर्णायक फैसला लेना पड़ा है। पीएम मोदी  ने देश को संबोधित करते हुए कालाधन पर लगाम लगाने के लिए कई बड़े ऐलान किये हैं। पीएम ने 500 और हजार के नोट करने की घोषणा की साथ ही 2000 रुपये के नए नोट बाजार में लाने का भी ऐलान किया। पीएम ने अपने संबोधन में कहा कि पिछले ढाई साल में देशवासियों के सहयोग से देश तरक्की की राह भ्रष्टाचार और कालेधन का जाल तो तोडने के लिए सरकार ने सख्त कदम उठाया है जिसके परिणाम भी सफल साबित होंगे। देश में कैश काला धन बेकार हो जाएगा, रियल एस्टेट क्षेत्र में काले धन का इस्तेमाल रुक जाएगा, हवाला के जरिए पैसों के लेन देन पर रोक लगेगी, देशभर में फैल चुके जाली नोट पर रोक लगेगी, भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी में कमी आएगी, ड्रग्स-हथियार के कारोबार पर रोक लगेगी, आतंकवाद की फंडिंग पर असर पड़ेगा, ब्लैकमनी पर सरकार की सख्ती काफी वक्त से चल रही है। विदेश और देश में मौजूद कालेधन को वापस लाने के लिए सरकार ने यह स्कीम चलायी है और काले धन को बाहर निकालने के लिए ही मोदी सरकार ने मास्टर स्ट्रोक चलाया है। अभाविप ने प्रधानमंत्री के निर्णय को देश हित में बताते हुए कहा कि लोगों को इस निर्णय से परेशानियों का सामना जरूर करना पड़ रहा है लेकिन चंद समय में ही लोगों की परेशानियां सुखद अनुभव के रूप में बदल जाएंगी और देश की अर्थव्यवस्था भी सुदृढ़ होगी।

Share on Google Plus

About Abhishek Mishra

www.katninews.com is first Hindi News Portal of Katni District. You can get latest Hindi News updates.

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें