धूल और प्रदूषण से सना माधवनगर क्षेत्र,बीमारियां से ग्रसित हो रहे लोग, जिम्मेदारों को नहीं सरोकार

कटनी।(08 अक्टूबर ) जहां एक ओर सरकार द्वारा पर्यावरण को प्रदूषण से मुक्त बनाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं और स्वच्छता की अलख जगाई जा रही है तो वहीं जिले का माधवनगर क्षेत्र प्रदूषण की चपेट में है जहां लोग धूल खाने को मजबूर हैं। भारी वाहनों की आवाजाही वाले क्षेत्र में सड़क का निर्माण न होने के कारण वहां धूल के गुब्बार उड़ते हैं जिसके कारण क्षेत्र के रहवासियों को सांस लेना भी दूभर हो जाता है। 

मांगों के बाद भी नतीजा सिफर

शहर के विकास के राग अलापने वाले नगर निगम प्रशासन की नजर अंदाजी ही कही जा सकती है कि आज तक भी माधवनगर क्षेत्र विकास के लिए तरस रहा है। यूं तो क्षेत्र के रहवासियों द्वारा जिला प्रशासन का ध्यान कई बार इस गंभीर समस्या की ओर आकर्षित कराया गया और सड़क में सुधार की मांग की गई लेकिन नतीजा सिफर ही रह गया जबकि आज भी क्षेत्र के रहवासी सड़क की सुविधा के लिए तरस रहे हैं और प्रदूषित वातावरण में जीवन जीने को मजबूर हैं।

दुर्दशा का दंश क्षेल रहा माधवनगर

एक ओर तो देखने में यह आ रहा है कि सरकार द्वारा चलाई गई योजनाओं के बलबूते गावों की दशा भी बदल चुकी है और लोग स्वच्छ वातावरण में सांस लेने लगे हैं लेकिन शहर के भीतर स्थित ही माधनगर क्षेत्र आज भी विकास से अछूता है। शहर के मुख्य मार्गों व प्रमुख स्थलों में चमक धमक करवाने के बाद कर्तव्य परायणता की दुहाई देने वाले नगर निगम प्रशासन की नजरें दुर्दशा का दंश झेल रहे माधवनगर क्षेत्र में क्यों नहीं पड़ रहीं यह समझ से परे है। 

प्रदूषित वातावरण में सांस ले रहे लोग

गौरतलब है कि औद्योगिक क्षेत्र होने कारण भारी वाहनों का प्रवेश माधवनगर क्षेत्र में अनवरत जारी रहता है। ऐसे में क्षेत्र की सड़कों में डामली करण न होने से पूरा क्षेत्र धूल धूसित रहता है। आलम यह है कि न धूल के गुब्बार लोगों के घरों में समाते हैं तो वहीं लोगों के कपड़े भी धूल से सन जाते हैं। यहीं नहीं क्षेत्र का वातावरण भी प्रदूषित रहता है जिसके कारण लोग गंभीर बीमारियों से ग्रसित भी हो रहे हैं। 

मिट्टी व गिट्टी डलवाकर कर ली इति-श्री

क्षेत्र वासियों की मानें तो अनेकों बार मांगो के बाद भी माधवनगर के राबर्ट लाइन शनि चौक स्थित कच्ची सड़क का डामलीकरण नहीं कराया गया। बताया गया कि जहांं डामलीकरण होना चाहिए था वहां नगर निगम ने मिट्टी और गिट्टी डलवा कर जिम्मेदारी से इतिश्री कर ली जबकि भारी वाहनों के आवागमन के कारण कथित कच्ची सड़क पुन: धूल के ढेर में तब्दील हो चुकी है। 

धूल में धंसा विकास का पहिया

कच्ची सड़क से उडऩे वाली धूल, गुब्बार बन कर मुख्य सड़क तक पसरी हुई है और नागरिकों के फेफड़ों में प्रवेश कर गंभीर बीमारियों को लगातार जन्म दे रही है। नगर निगम तो इस गंभीर समस्या से मुंह फेरकर बैठा ही है, इसके अलावा जिले का प्रदूषण विभाग भी पूरी तरह निष्क्रियता का ही प्रमाण दे रहा है। आलम देखकर यही प्रतीत होता है कि माधवनगर क्षेत्र के विकास का पहिया धूल और मिट्टी में धंसा हुआ है।

Share on Google Plus

About Abhishek Mishra

www.katninews.com is first Hindi News Portal of Katni District. You can get latest Hindi News updates.

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें