कलेक्टर श्री गढ़पाले ने गनियारी, गुलवारा एवं बड़ागांव का किया औचक निरीक्षण, स्व-सहायता समूह को बर्खास्त करने, सीडीपीओ एवं सेक्टर सुपरवाईजर की वेतनवृद्वि रोकने के दिये निर्देश


शैक्षणिक कार्यों में लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी, कलेक्टर ने दिये कड़े निर्देश
रिजल्ट खराब होने पर बड़ागांव हाई स्कूल प्राचार्य को करें सस्पेंड
कटनी (1 फरवरी)- कलेक्टर श्री गढ़पाले ने एक बार फिर शिक्षा मिशन एवं गांव चले अभियान को प्राथमिकता दी। सुबह 10.30 बजे उन्होने कटनी के समीपस्थ गनियारी, गुलवारा एवं बड़ागांव के प्रत्येक स्कूलों, आंगनबाड़ी केन्द्रों एवं पंचायत भवनों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित शिक्षकों, कार्य में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों को अवैतनिक करने, वेतन-वृद्वि रोकने एवं मीनू अनुसार भोजन प्रदान ना करने पर स्व-सहायता समूह को बर्खास्त करने, स्वच्छ भारत मिशन में प्रगति न आने पर रोजगार सहायक को एक दिन का अवैतनिक करने एवं उसके कामों की समीक्षा कर कार्य सही ना होने पर सेवा समाप्त करने के साथ बड़ागांव हाई स्कूल के रिजल्ट खराब आने पर प्रिन्सिपल को निलंबित करने के निर्देश दिये।
            कलेक्टर के औचक निरीक्षण से हर जगह हड़कंप मच गया। कलेक्टर ने स्कूलों में बच्चों की कक्षाओं में जाकर उन्हें पढ़ाया और उनके पढ़े हुये कार्यों की परीक्षा भी ली। आंगनबाड़़ी केन्द्रों में गुणवत्तायुक्त खाना नहीं मिलने, गर्भवती महिलाओं एवं टीकाकरण रजिस्टर अद्यतन नहीं किये जाने पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को अवैतनिक करने एवं सेक्टर सुपरवाईजर एवं सीडीपीओ की एक-एक वेतनवृद्वि रोकने के भी कड़े निर्देश दिये। कलेक्टर के सख्त तेवर देखकर शिक्षा विभाग में सनाका खिच गया। कलेक्टर ने अपनी कार्यवाही से यह स्पष्ट संदेश दिया है कि वे किसी भी मिशन में लापरवाही या गुणवत्ता विहीन कार्य किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं करेंगे। शासन की योजनाओं का अक्षरक्षः पालन उनकी प्राथमिकता में शुमार है।
गुड मॉर्निंग बेटे, तुम पढ़ा रही हो बेटी, वैरी गुड
            शासकीय माध्यमिक शाला गुलवारा से अपने ग्रामीण भ्रमण की शुरुआत कलेक्टर श्री गढ़पाले ने की। यहां पर कक्षा 6वीं-बी में अंग्रेजी विषय पढ़ाये जाने के दौरान कलेक्टर अचानक कक्षा के भीतर पहुंचे। कलेक्टर ने पहुंचते साथ ही सभी बच्चों का आत्मीय अभिवादन करते हुये गुड मॉर्निंग बेटों, कहा। बच्चों के द्वारा प्रतिउत्तर दिये जाने पर उन्होने पूछा कि कौन सा सब्जेक्ट पढ़ रही हो। आपकी टीचर कहां है। आपको कौन पढ़ा रहा है।
            इस दौरान करिश्मा श्रीवास नाम की बच्ची ने निर्भीकता से बताया कि टीचर अभी नहीं आई हैं और मेरे द्वारा सभी को अंग्रेजी पाठ पढ़ाया जा रहा है।
            कक्षा 6वीं-ए के निरीक्षण में भी टीचर की अनुपस्थिति ने कलेक्टर को दुखी कर दिया। उन्होने बच्चों से षटकोण, त्रिकोण व उनके पाठ्यक्रम से संबंधित जानकारी ब्लेकबोर्ड पर लिखकर पूछी। बच्चों की जिज्ञासाओं का समाधान किया। प्राचार्य एवं टीचर्स भारती आसरानी एवं अरुणा मिश्रा को एक-एक दिन का अवैतनिक करने के साथ शोकाज नोटिस देने के निर्देश दिये। यहां पर निरीक्षण के दौरान किचिन शेड में एग्जास्ट एवं वेंटिलेशन की जगह बनाकर धुआं निकालने की तारीफ की।
घटिया निर्माण बर्दाश्त नहीं, ईईआरईएस को जारी करें नोटिस
            शासकीय माध्यमिक शाला गुलवारा में आरईएस द्वारा गतवर्ष सर्व शिक्षा अभियान के तहत बनाये गये हॉल की दुर्दशा को गंभीरता से लेकर ईईआरईएस को घटिया निर्माण के लिये शोकाज नोटिस जारी कर 7 दिवस के भीतर जवाब चाहा। प्रिन्सिपल द्वारा उन्हें उक्त भवन की दुर्दशा दिखाते हुये बताया गया कि यहां का फर्श, दीवारें जगह-जगह से क्रेक हो गई हैं। यह हॉल अनुपयोगी हो गया है। इसकी तत्काल मरम्मत जरुरी है।
            शासकीय प्राथमिक शाला गुलवारा में पहुंचकर कलेक्टर ने औचक निरीक्षण कर सबसे पहले आंगनबाड़ी केन्द्र एवं मध्यान्ह भोजन का निरीक्षण किया। यहां पर प्रधान अध्यापक से शिक्षकों की उपस्थिति संबंधी जानकारी ली। प्रधानाध्यापक द्वारा बतलाया गया कि एम0एल0 कोल नामक सहायक शिक्षक लगभग 3 वर्षों से एसडीएम कार्यालय में संलग्न है। जिससे शैक्षणिक कार्य प्रभावित हो रहा है। उनके द्वारा तत्काल उस शिक्षक को स्कूल में पदस्थ किये जाने के निर्देश दिये गये। स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत बच्चों को जानकारी दिये जाने के सवाल पर प्रधानाध्यापक द्वारा बताया गया कि बाल कैबिनेट में प्रतिदिन 3.30 बजे उन्हें इस संबंध में जानकारी दी जाती है। पालकों को भी तत्तसंबंधी जानगरुकता प्रदान की जाती है।
झूठ बोलने एवं गुणवत्ता विहीन आहार देने वाले स्व-सहायता समूह को बर्खास्त करने के दिये निर्देश
            अंागनबाड़ी केन्द्र के निरीक्षण के दौरान कार्यकर्ता उषा दुबे की अनुपस्थिति पर उन्हें एक दिन के लिये अवैतनिक करने के निर्देश के साथ कलेक्टर ने बच्चों के टीकाकरण एवं गर्भवती महिलाओं के रजिस्टर मांगा। जो वहां पर नहीं मिला। बच्चों को गुणवत्तायुक्त सलोनी की जगह बिस्कुट दिये जाने पर अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुये स्वसहायता समूह की संचालिका द्वारा झूठ बोलने पर कलेक्टर ने उन्हें डांटा और कहा कि बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति आप लोगों की बदमाशी नहीं चलेगी। झूठ बोलने वाले स्वसहायता समूह की आवश्यकता नहीं है। उन्होने सीता स्वसहायता समूह को तुरंत हटाने के निर्देश दिये।
मॉनीटरिंग ना करने पर सेक्टर सुपरवाईजर व सीडीपीओ की वेतनवृद्वि रोकें
            कलेक्टर ने अपने निरीक्षण के दौरान संबंधित क्षेत्र के सेक्टर सुपरवाईजर संध्या शुक्ला एवं सीडीपीओ इन्द्रभूषण तिवारी द्वारा आंगनबाड़ी केन्द्रों की निरंतर मॉनीटरिंग नहीं किये जाने पर तत्काल प्रभाव से एक-एक वेतनवृद्वि रोकने हेतु जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास को निर्देशित किया। आंगनबाड़ी केन्द्र के सामने नाली बनाने एवं सफाई कराने हेतु भी संबंधित को निर्देश प्रदान किये।
            ग्राम पंचायत भवन गुलवारा के निरीक्षण के दौरान सचिव की अनुपस्थिति पर उसे एक दिन के लिये अवैतनिक करने के निर्देश दिये। कलेक्टर न रोजगार सहायक से पेंशन योजना, बीपीएल, नामांतरण संबंधी अन्य जानकारी प्राप्त की। एक साल के नन्हे बच्चे भूपेन्द्र सोनी को देखकर उसके पिता कमलेश सोनी से कलेक्टर ने आत्मीयता से पूछा कि बच्चे को पोलियो ड्रॉप पिलवाये हो कि नहीं। बच्चे का टीकाकरण कार्ड बना है। पिता द्वारा हां किये जाने पर कलेक्टर द्वारा उन्हें शाबासी दी गई।

            शासकीय प्राथमिक शाला गनियारी में भी सीधे घुसकर कलेक्टर ने आंगनबाड़ी केन्द्र पहुंचकर नन्हे-नन्हे बच्चों से मिले। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से पौष्टिक आहार व नाश्ता बच्चों को दिये जाने की जानकारी ली। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा सलोनी नाश्ते में दिये जाने की बात पर कलेक्टर द्वारा सलोनी टेस्ट कराई गई। जिस पर सलोनी कच्ची होने पर स्वसहायता समूह को फटकार लगाते हुये सही एवं गुणवत्तायुक्त नाश्ता एवं आहार दिये जाने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने टीकाकरण रजिस्टर एवं गर्भवती महिलाओं का रजिस्टर चैक किया। जिसमें ओ0आर0 वैक्सीन पंजीकृत नहीं पाये जाने पर आंगनबाडी कार्यकर्ता को फटकार लगाई। यहां पर नीतू पति अनुज एवं अभिलाषा पति अरविन्द के एक एवं डेढ़ माह के बच्चों का नाम व टीकाकरण दर्ज नहीं होने पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता विमला तिवारी को कड़ी फटकार लगाई। सेक्टर सुपरवाईजर संध्या शुक्ला की एक वेतनवृद्वि रोकने के निर्देश दिये।
गनियारी प्राथमिक विद्यालय में मध्यान्ह भोजन मीनू की निगरानी ना करने पर हेडमास्टर की एक वेतनवृद्वि रोकने के दिये निर्देश
            कलेक्टर ने स्कूल के अंदर कक्षाओं में जाकर बच्चों से मध्यान्ह भोजन गुणवत्तापूर्ण होने की जानकारी ली। बच्चों द्वारा मीनू का पालन नहीं होने की जानकारी प्रदान किये जाने पर कलेक्टर ने हेडमास्टर अनिल मिश्रा एवं स्वसहायता समूह की संचालिका को फटकार लगाते हुये कहा कि बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति खिलवाड़ करने की किसी को इजाजत नहीं है। उन्होने मीनू का पालन ना कराने पर हेडमास्टर की एक वेतनवृद्वि रोकने के निर्देश दिये।
            कक्षा दूसरी, कक्षा चौथी में बच्चों के पास पहुंचकर कलेक्टर ने ब्लेकबोर्ड पर षटकोण, त्रिकोण, चर्तुभुज बनाकर बच्चों से आकृतियों का नाम पूछा। उन्होने अंग्रेजी विभिन्न वर्ड लिखकर बच्चों को पढ़ाई गई शैक्षणिक जानकारी की परीक्षा ली।
प्रयोगशाला में उपकरणों पर जमीं धूल को देखकर भड़के कलेक्टर
बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ की किसी को इजाजत नहीं
रिजल्ट खराब होने पर प्राचार्य को करें सस्पेंड, डीईओ को दिये निर्देश
            शासकीय हाई स्कूल बड़ागांव में पहुंचकर कलेक्टर ने कक्षा 9वीं एवं 10वीं क्लास के बच्चों से मुलाकात की। उन्होने बच्चों से उन्हें पढ़ाये गये विषयों की भी जानकारी ली। विद्यार्थियों द्वारा आज इंग्लिश के प्री-बोर्ड परीक्षा दोपहर 12 बजे से प्रारंभ होने की जानकारी दी गई। कलेक्टर ने बच्चों से पूछा आप लोगों को पूरा कोर्स पढ़ाया गया है अथवा नहीं। बच्चों ने कहा कि समय-समय पर शिक्षकों द्वारा पढ़ाया जाता है।
            कलेक्टर ने प्रयोगशाला सहायक को साथ लेकर स्कूल भवन स्थित प्रयोगशाला का निरीक्षण किया। कलेक्टर के प्रयोगशाला निरीक्षण से समूचा शैक्षणिक स्टाफ स्तब्ध रह गया। कलेक्टर ने प्रयोगशाला में उपकरणों पर जमी धूल को देखकर प्रयोगशाला सहायक एवं शौक्षणिक स्टाफ को जमकर लताड़ लगाई। उन्होने कहा कि बच्चों के भविष्य से आप खिलवाड़ कर रहे हैं। यह मैं किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं करुॅंगा। प्रयोगशाला से रजिस्टेंस उपकरण उठाकर विद्यार्थियों से उसका नाम पूछने पर कोई भी विद्यार्थी सही नाम नहीं बता सका। इस पर कलेक्टर ने प्रयोगशाला सहायक एवं शिक्षकों से कहा कि क्या यही आपकी पढ़ाई की गुणवत्ता है। शासन जिस बात की तन्खाह दे रही है। वह अपने उत्तरदायित्व आप पूरे करे। आप लोगों में जरा भी शर्म बाकी है, तो आप बच्चों के भविष्य संवारे, उन्हें बिगाड़ें नहीं।
            यहां पर प्रिन्सिपल मधु कपूर की अनुपस्थिति पर उन्हें एक दिन के लिये अवैतनिक करने एवं प्राचार्य एवं प्रयोगशाला सहायक की लापरवाही पर उनकी क्रमशः एक एवं दो वेतनवृद्वि तत्काल प्रभाव से रोकने के निर्देश दिये। प्राचार्य की लापरवाही पर कलेक्टर की नाराजगी नहीं रुकी और उन्होने स्पष्ट चेतावनी देते हुये दो-टूक कहा कि जिला शिक्षा अधिकारी इस बात को सुनिश्चित करें कि यदि इस विद्यालय का रिजल्ट खराब आता है, तो तत्काल प्रभाव से प्राचार्य को सस्पेंड किया जाये।

             ग्राम पंचायत भवन बड़ागांव पहुंचकर यहां पर भी सचिव की अनुपस्थिति पर उसे एक दिन के लिये अवैतनिक किये जाने के निर्देश के साथ पंचायत के रिकॉर्ड का अवलोकन किया। रोजगार सहायक रामचरण रैदास द्वारा सही जानकारी ना दिये जाने पर एवं मनरेगा के कामों को सही ढ़ंग से नहीं किये जाने पर उसे भी एक दिन के लिये अवैतनिक किये जाने के निर्देश कलेक्टर ने दिये। इतना ही नहीं कलेक्टर ने ग्राम पंचायत द्वारा स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनाये गये शौचालयों का भी निरीक्षण किया। गुणवत्तापूर्ण कार्य नहीं होने पर रोजगार सहायक को लताड़ लगाईं। सीईओ जनपद पंचायत कटनी को निर्देशित किया कि वे रोजगार सहायक के पिछले 3 माह के कार्यों का परीक्षण कर यह सुनिश्चित करें कि इसके द्वारा कार्य सही किया गया है या नहीं। कार्य सही ना किये जाने पर इसकी सेवायें तत्काल समाप्त की जायें। गलत तरीके से एडिटकर शौचालय निर्माण की फोटो प्रस्तुत किये जाने को गलत ठहराते हुये इस ढंग की कार्यवाही की पुनरावृत्ति ना किये जाने के निर्देश दिये। कार्यों की निगरानी एवं संपादन सही ढंग से नहीं किये जाने एवं लापरवाही बरतने पर पीसीओ को अवैतनिक किये जाने के भी निर्देश दिये। 


from Blogger http://dprokatni.blogspot.com/2017/02/blog-post_1.html
via IFTTT
Share on Google Plus

About Abhishek Mishra

www.katninews.com is first Hindi News Portal of Katni District. You can get latest Hindi News updates.

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें