जिला आपदा प्रबंधन जागरुकता कार्यशाला सम्पन्न

कुशल व्यवहारिक ज्ञान के साथ आपदा बचाव से कलेक्टर श्री गढ़पाले ने कराया अवगत
कटनी (8 फरवरी)- स्थानीय कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार प्रातः 11 बजे कलेक्टर विशेष गढ़पाले की अध्यक्षता में एक दिवसीय जिला आपदा प्रबंधन जागरुकता कार्यशाला का आयोजन संपन्न हुआ। कार्यशाला में जिला पंचायत सीईओ डॉ0 के0डी0 त्रिपाठी, आपदा प्रबंधन भोपाल के डिप्टी डायरेक्टर सुधीर द्विवेदी, डॉ0 कमलेश प्रसाद, सर्वराज सिंह एवं लक्ष्मी नारायण जाट सहित विभिन्न विभाग प्रमुख उपस्थित थे।
आकस्मिक दुर्घटनाओं में धैर्य और सूझबूझ के साथ करें बचाव - कलेक्टर विशेष गढ़पाले
कार्यक्रम के प्रारंभ में कलेक्टर श्री गढ़पाले ने आपदा प्रबंधन से संबंधित विशेष जानकारी से उपस्थित अधिकारियों को अवगत कराते हुये कहा कि दुर्घटनायें कभी बताकर नहीं आतीं। अचानक होने वाली दुर्घटनाओं में व्यक्ति को धैर्य रखते हुये सूझबूझ के साथ तत्तकालिक बचाव प्रणाली अपनाकर खुद एवं दूसरों के जानमाल की रक्षा करनी चाहिये। कलेक्टर ने आपदा प्रबंधन पर कुशल व्यवहारिक ज्ञान प्रदान करते हुये अनेक मामलों का उदाहरण दिया। भोपाल की एक बिल्डिंग तोड़ने इंदौर से विशेषज्ञ इंजीनियर श्री सर्वटे की सेवाओं का भी उल्लेख करते हुये कहा कि एैसे में कम समय में बेहतर प्लानिंग के साथ हमें आने वाली दुर्घटनाओं से जूझना होगा। उन्होने शासकीय विभाग प्रमुखों की समस्याओं का भी समाधान किया।
आपदा प्रबंधन से जुड़ी विस्तारित जानकारी से विभाग प्रमुखों को डिप्टी डायरेक्टर श्री द्विवेदी ने कराया अवगत
डिप्टी डायरेक्टर श्री द्विवेदी ने कम आपदा के अभिप्राय को प्रतिपादित करते हुये मानव जीपन में होने वाले खतरों से अवगत कराया बाड़ प्रबंधन एवं भूकंप प्रबंधन के बारे में विस्तारित जानकारी के साथ तत्कालीन तत्परता दिखाते हुये उससे बचाव अभियान से भी उपस्थितजनों को अवगत कराया। अग्नि दुर्घटनाओं, रासायनिक गैसों के रिसाव, भगदड़ व घरेलू दुर्घटनाओं पर प्रकाश डालते हुये इन सभी से समय-समय पर कैसे बचा जाये और दुर्घटना होने पर उससे निपटने के तरीकों पर भी प्रकाश डाला। आपातकालीन चिकित्सा के प्रशिक्षण को आवश्यक बताते हुये कहा कि वर्तमान समय में इस पद्वति से सभी को अवगत होना जरुरी है। क्योंकि किसी भी तरह की आकस्मिक दुर्घटना होने पर आपातकालीन बचाव चिकित्सा इसी के माध्यम से दी जाती है।
            कटनी जिले को प्रदेश के 28 संवेदनशील जिलों में रखा गया है। यहां पर भूकंप से होने वाले खतरे से भी अवगत कराया। विस्फोटक भण्डारण, केमिकल स्टोरेज सहित खतरनाक उद्योगों एवं शहरी घनी आबादी में संवेदनशील वस्तुओं के भण्डारण स्थल पर विशेष निगाह रखे जाने के लिये भी आगाह किया।

            अन्य वक्ताओं ने आपदा प्रबंधन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये राहत, बचाव, लघुकालीन एवं दीर्घकालीन प्रतिपूर्ति पर जोर देते हुये अपनी बात रखी। प्रारंभ में डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट नीरज सिंह एवं सीडीआई श्री त्रिपाठी ने उपस्थितजनों को संबंोधित किया।


from Blogger http://dprokatni.blogspot.com/2017/02/blog-post_87.html
via IFTTT
Share on Google Plus

About Abhishek Mishra

www.katninews.com is first Hindi News Portal of Katni District. You can get latest Hindi News updates.

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें