दो दिवसीय इंडस्ट्रियल कॉनक्लेव का हुआ शुभारंभ, मध्यप्रदेश बनेगा उद्योग के क्षेत्र में देश का अग्रणी राज्य - उद्योगमंत्री श्री शुक्ला, अगले साल और वृहद् स्तर पर होगा इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव का आयोजन - राज्यमंत्री श्री पाठक

कटनी (8 अप्रैल)- कटनी को ब्रांड के रुप में स्थापित करने के उद्वेश्य से एमएसएमई विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय कटनी इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव का शनिवार को भव्य आगाज हुआ। प्रदेश के उद्योगमंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ला, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री संजय सत्येन्द्र पाठक, महापौर श्री शशांक श्रीवास्तव और जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती ममता पटैल ने दीप प्रज्वलित कर कॉन्क्लेव का शुभारंभ किया। इस दौरान सीआईआई के चेयनमैन अरविन्द गुगालिया भी उपस्थित रहे।
             गौरतलब है कि, एमएसएमई डिपार्टमेंट द्वारा कटनी में खनिज व खनन, कृषि व खाद्य प्रसंस्करण एवं रक्षा पर केन्द्रित कॉनक्लेव आयोजित की गई है। जिसका उद्वेश्य एमएसएमई द्वारा मांग के पैटर्न की बेहतर समझ विकसित कर कटनी जिले में इन तीनों क्षेत्रों में उभरते हुये निवेश के अवसरों का लाभ उठाना और क्रेता-विक्रेता के संपर्कों को सुगम बनाना है।
मध्यप्रदेश के विकास की रफ्तार की प्रधानमंत्री भी करते हैं सराहना
           इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव में अपनी बात रखते हुये उद्योगमंत्री श्री राजेन्द्र शुकला ने कहा कि मध्यप्रदेश में उद्योगों की स्थापना के लिये हर संभव मदद दी जा रही है और आज उद्योग के क्षेत्र में मध्यप्रदेश, देश का अग्रणी राज्य बनने जा रहा है। मध्यप्रदेश पहले बीमारु राज्य के रुप में पहचाना जाता था, लेकिन मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में मध्य्रपदेश की सरकार ने सड़क, बिजली, पानी के क्षेत्र में इतना काम किया है कि समूचे देश में मध्यप्रदेश की नई पहचान बन गई है। यह प्रदेश बीमारु राज्य से बाहर निकलकर देश का तेजी से विकसित होता राज्य बन गया है। इतना ही नहीं अब देश के मुखिया हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी भी संसद में मध्यप्रदेश को विकास के मापदण्डों में क्रांति लाने वाला प्रदेश बताते हैं।
कहा मील का पत्थर साबित होगी इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव
राज्यमंत्री श्री पाठक के केआईसी के प्रयास की उद्योगमंत्री ने की सराहना

             कार्यक्रम के मुख्य अतिथि खनिज साधन, उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ला ने राज्यमंत्री श्री संजय पाठक के प्रयासों की सराहना करते हुये कहा कि भोपाल एवं इंदौर जैसे शहरों में आयोजित होने वाली समिट को कटनी में आयोजित करना इस क्षेत्र के लिये मील का पत्थर साबित होगा। यह प्रयास कटनी एवं महाकौशल क्षेत्र में औद्योगिक क्रांति लाने में सफल होगा। उन्होने कहा कि मध्यप्रदेश में उद्योगों के विस्तार के लिये सभी संभागीय मुख्यालयों को फोरलेन सड़क से जोड़ा जा रहा है। कटनी में बिजली, पानी एवं खनिज के अपार भंडार उपलब्ध हैं और इस क्षेत्र में इन पर आधारित उद्योग लगाने के लिये अपार संभावनायें विद्यमान हैं।
जबलपुर, कटनी, सतना, रीवा, बनारस, सोनभद्र तक इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाने का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा
            उद्योग मंत्री श्री शुक्ला ने कहा कि प्रदेश सरकार ने श्रम कानून को सरल बनाकर उद्योगों को मदद पहुंचाने का काम किया है। उद्योगों के लिये जमीन देने डायवर्सन की प्रक्रिया को आसान बनाया है। प्रदेश में उद्योगों के लिये 24 घंटे बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित की है। पानी की उपलब्ध्ता सुनिश्चित करने के लिये नर्मदा बेसिन का पानी गंगा बेसिन में पहुंचाने के लिये काम किया जा रहा है। रीवा के गुड़ में विश्व का सबसे बड़ा 750 मैगावॉट क्षमता का सोलर पॉवर प्लांट तैयार होने जा रहा है। महाकौशल क्षेत्र में बिजली, पानी के साथ सभी तरह के खनिज उपलब्ध हैं। इसको देखते हुये प्रदेश सरकार ने जबलपुर, कटनी, सतना, रीवा, बनारस, सोनभद्र तक इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाने का प्रस्ताव भारत सरकार को भेेजा है और इसके मंजूर होने की संभावना भी है।
यह शुरुआत है, अगले साल वृहद्स्तर पर होगी इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव
            कटनी इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव के शुभारंभ के अवसर पर अपनी बात रखते हुये सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग राज्यमंत्री श्री संजय सत्येन्द्र पाठक ने कॉन्क्लेव में शामिल होने आये उद्योगपतियों का स्वागत करते हुये कटनी के औद्योगिक महत्व को विस्तार से बताया। राज्यमंत्री श्री पाठक ने कहा कि कटनी इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव, एमएसएमई विभाग का पहला प्रयास है। लेकिन अगले वर्ष इससे वृहद्स्तर पर इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव का आयोजन किया जायेगा। साथ ही इसके बाद प्रत्येक दो वर्षों में इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव के आयोजन, एमएसएमई विभाग द्वारा किये जायेंगे।
संसाधन संपन्न है कटनी
             राज्यमंत्री श्री संजय पाठक ने इस अवसर पर उद्योगपतियों को संबोधित करते हुये कहा कि कटनी में औद्योगिक विकास की अपार संभावनायें हैं। कटनी जिला संसाधन संपन्न है। मध्यप्रदेश, हमारे देश का हृदय प्रदेश है, तो मध्यप्रदेश का हृदयस्थल, हमारा कटनी है। यहां पर विभिन्न प्रकार के मिनिरल्स मौजूद हैं।
            कटनी बेस्ट लॉजिस्टिक हब है। रोड कनेक्टिविटी, रेल्वे कनेक्टिविटी और एयर कनेक्टिविटी भी यहां सुगमता से मौजूद है। कटनी में ना पॉवर की कमी है, ना पानी की। औद्योगिक कार्य क्षेत्र में राजनैतिक हस्ताक्षेप भी नहीं है। स्क्ल्डि लेबर यहां पर उपलब्ध है। दाल मिल के क्षेत्र में कटनी, मध्य भारत का नंबर वन जिला है। यहां पर राईस मिल  और बेसन के क्षेत्र में कार्य करने की अपार संभावनायें हैं। हमारे पास कटनी में लैंडबैंक की कोई भी कमी नहीं है। 3 हजार एकड़ से उपर लैंडबैंक हमारे पास उपलब्ध है।
मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरुप औद्योगिक विकास के लिये महत्वपूर्ण है ये आयोजन
            अपने संबोधन में राज्यमंत्री श्री पाठक ने कहा कि मध्यप्रदेश में उद्योगों को प्रोत्साहित करने के लिये नये तरह की पहल की जा रही है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की मंशा है कि उद्योग के क्षेत्र में मध्यप्रदेश देश में सबसे आगे रहे। उनकी इसी मंशा को लेकर आज कटनी में इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव का आयोजन किया गया है। कटनी सभी तरह के संसाधनों से परिपूर्ण क्षेत्र हैं और इसमें उद्योगों की स्थापना के लिये अपार संभावनायें हैं।
मेक इन इंडिया की तर्ज पर हो मेक इन कटनी का प्रयास
            कटनी के महापौर श्री शशांक श्रीवास्तव ने शुभारंभ के अवसर पर कहा कि कटनी में विकसित औद्योगिक केन्द्र बनने की सभी सुविधायें उपलब्ध हैं। कटनी में जो कोई भी व्यक्ति उद्योग लगाने के क्षेत्र में आगे आयेगा, उसे हर संभव मदद की जायेगी और हमारा यह प्रयास होगा कि मेक इन इंडिया की तर्ज पर मेक इन कटनी का प्रभावी प्रयास किया जाये।
इंदौर, भोपाल से बाहर पहली बार एैसा आयोजन
सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव श्री बी0एल0 कान्ताराव ने कॉन्क्लेव के शुभारंभ अवसर पर कहा कि मध्यप्रदेश में इंदौर एवं भोपाल के बाहर पहली बार इस तरह का आयोजन किया जा रहा है। कटनी से इसकी शुरुआत की गई है। उन्होने कहा कि रोजगार देने के मामले में लघु एवं कुटीर उद्योग आगे रहे हैं। देश का 40 प्रतिशत निर्यात इन्ही उद्योगों से हो रहा है। लघु एवं कुटीर उद्योगों को अधोसंरचना विकास के लिये मदद देने के साथ ही उन्हें अनुदान भी दिया जा रहा है। प्रदेश में सूक्ष्म उद्योगों का ऑनलाईन पंजीयन प्रारंभ किया गया है और वर्तमान में 87 हजार सूक्ष्म उद्योग पंजीकृत हो चुके हैं।
            विजन 2018 के तहत मध्यप्रदेश को मेक इन इंडिया का हब बनाने का प्रयास किया जा रहा हैं मध्यप्रदेश में हर साल 15 लाख युवाओं को कौशल उन्नयन के द्वारा सशक्त बनाने का लक्ष्य रखा गया है। रक्षा के क्षेत्र में यूनिट लगाने पर उसे अन्य यूनिट की तुलना में दो गुना प्रोत्साहन दिया जायेगा। उन्होने कहा कि लघु उद्योगों और बड़े उद्योगों के बीच में समन्वय स्थापित करने के लिये हर जिले में एक कंसल्टेंट नियुक्त किया जा रहा है। जिसका काम लघु उद्योगों द्वारा तैयार सामग्री, बड़े उद्योगों को उपलब्ध कराना रहेगा।      

            इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव के शुभारंभ अवसर पर सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव श्री बी0एल0 कान्ताराव, खनिज विभाग के सचिव श्री मनोहर लाल दुबे, कलेक्टर श्री विशेष गढ़पाले सहित उद्योग क्षेत्र से जुड़े जानेमाने उद्यमी एवं उद्योग लगाने के इच्छुक लोग बड़ी संख्या में उपस्थित थे। इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव के शुभारंभ सत्र के समापन पर आभार प्रदर्शन लघु उद्योग संघ कटनी के चेयरमेन श्री सुधीर कुमार मिश्रा ने किया। इस दौरान उन्होने भी कटनी में औद्योगिक विकास की प्रबल संभावनाओं और बिजनिस फ्रैन्डली एट्मॉसफेयर की जानकारी भी दी।
Share on Google Plus

About Abhishek Mishra

www.katninews.com is first Hindi News Portal of Katni District. You can get latest Hindi News updates.

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें