चितंबरम के 16 ठिकानों पर छापा, कांग्रेस ने लगाया तानशाही का आरोप


नई दिल्ली। सीबीआई ने पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम के घर छापा मारा है। सीबीआई ने कुल 16 जगहों पर छापा मारा है। केंद्रीय जांच एजेंसी-सीबीआई ने पी चिदंबरम के चेन्नई स्थित निवास और कार्ति चिदंबरम के कराईकुडी के घर में छापा मारा है।
मिली जानकारी के अनुसार सीबीअाई की यह कार्रवाई 16 जगहों पर जारी है। पीटर मुखर्जी के आईएनएक्स मीडिया को मंजूरी देने के मामले में चिदंबरम के खिलाफ सोमवार को एफअाईअार दर्ज हुई थी। सोमवार को चिदंबरम के खिलाफ दर्ज की गई एफअाईअार के बाद छापेमारी की गई है। चेन्नई के अलावा चिदंबरम व कार्ति के मुंबई, दिल्ली, गुरुग्राम, चेन्नई स्थित ठिकानों पर सीबीआई का सर्च अॉपरेशन जारी है।
इस बीच कांग्रेस ने भाजपा सरकार पर तानाशाही का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार बदले की भावना में अंधी हो गई है और इस तरह के झूठे केस कांग्रेस पार्टी को डरा नहीं सकते हैं।
कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस के प्रमुख विपक्षी नेता को झूठे केस में फंसाकर विपक्ष की आवाज को दबाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बदला और झूठे केस लगाना भाजपा सरकार के डीएनए में है। ऐसे केसों से कांग्रेस पार्टी विचलित नहीं होगी। उन्होंने कहा कि ऐसे केस पार्टी को डरा नहीं सकते और देश के लिए कांग्रेस पार्टी लड़ाई जारी रखेगी।
छापेमारी पर यह कहा चिदंबरम ने
छापेमारी के बाद पी. चिदंबरम ने बयान जारी करते हुए कहा कि सरकार की मंशा मेरी आवाज बंद करने की है। चिदंबरम ने सरकार पर सीबीअाई और अन्य एजेंसियों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। चिदंबरम ने बयान में कहा कि सभी नियमों का पालन किया गया है, सरकार मुझे निशाना बना रही है।
उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार सीबीआई और अन्य एजेंसियों का इस्तेमाल कर मेरे बेटे और उसके दोस्तों को निशाना बना रही है। सरकार का उद्देश्य मेरी आवाज को बंद करना और मुझे लिखने से रोकना है। उसने विपक्षी दलों, पत्रकारों, स्तंभकारों, गैर सरकारी संगठनों और समाजिक संगठनों के नेताओं के मामलों में एेसा करने की कोशिश की है।वहीं कांग्रेस नेता के आर रामासामी ने कहा कि चिदंबरम ने कुछ गलत नहीं किया, राजनीति से प्रेरित है छापा।कांग्रेस नेता दिग्व‍िजय सिंह ने चिदंबरम और कार्ति के ठिकानों पर छापे की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि यह बदले की कार्रवाई है। कांग्रेस नेता अारएस सुरजेवाला ने कहा कि इस प्रकार के गिदड़ भभकी से ना ही हम ना ही पी चिदंबरम डरने वाले है।
जानिए, यह है मामला
यह मामला आईएनएक्स मीडिया से जुड़ा है। आईएनएक्स मीडिया के फंड को एफअाईपीबी के जरिये मंजूरी दी गई थी, उस दौरान पी. चिदंबरम विभाग के मंत्री थे। सोमवार को सीबीआई ने इस मामले में एफआईआर दर्ज की थी, जिसमें इंद्राणी मुखर्जी, पीटर मुखर्जी और कार्ति चिदंबरम का भी नाम शामिल था। चेन्नई में पी. चिदंबरम के घर समेत कई दफ्तरों में भी छापे मारे गये हैं। बताया जा रहा है कि सीबीआई दिल्ली में भी छापे मार सकती है। यूपीए सरकार के दौरान इस मामले की जांच रुक गई थी, जिसे अब दोबारा शुरू किया गया है।
गौरतलब है कि इससे पहले 17 अप्रैल को प्रवर्तन निदेशालय ईडी ने 45 करोड़ रुपए से जुड़े फेमा कानून के उल्लंघन को लेकर कार्ति चिदंबरम और उनसे कथित तौर पर संबंधित कंपनी को कारण बताओ नोटिस जारी किया था।
ईडी ने दो साल से अधिक की जांच के बाद इसी प्रकार का नोटिस चेन्नई की कंपनी मेसर्स वासन हेल्थकेयर प्राइवेट लि. को 2,262 करोड़ रुपए के विदेशी विनिमय प्रबंधन कानून फेमा नियमों के उल्लंघन को लेकर जारी किया है।
प्रवर्तन निदेशालय ने एक नोटिस में कहा कि मेसर्स एडवांटेज स्ट्रैटजिक कंसल्टिंग प्राइवेट लि ने विदेशी निवेशकों को वासन चेन्नई की कंपनी के शेयरों की बिक्री सौदे में करीब 45 करोड़ रुपए की गड़बड़ी की।
इसके अनुसार, मेसर्स एडवांटेज स्ट्रैटजिक कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड व उसके निदेशकों तथा कार्ति पी चिदंबरम को भी नोटिस जारी किए गए हैं। ऐसा जान पड़ता है कि वह नियंत्रक हैं और इस सौदे के वे हीं लाभार्थी हैं।

Share on Google Plus

About prachand janta

www.katninews.com is first Hindi News Portal of Katni District. You can get latest Hindi News updates.

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें