कलेक्टर ने किया स्कूलों का दौरा कहा शिक्षा के साथ सिखाये अनुशासन

कटनी। विद्यालय की गरिमा को बनाकर रखें। विद्यार्थियों को विषयों की शिक्षा के साथ ही अनुशासन भी सिखायें। स्कूल कोई पार्क नहीं है कि कोई भी विद्यार्थी कभी भी, कितने भी समय आ जाये। अपने विजिट के दौरान शिक्षकों को ये निर्देश कलेक्टर विशेष गढ़पाले ने दिये। उन्होने बुधवार को औचक रुप से विजयराघवगढ़ जनपद की शालाओं और आंगनबाड़ी केन्द्रों का निरीक्षण किया। इस दौरान कलेक्टर ने बिना आवेदन अनुपस्थित एक शिक्षक को जहां अवैतनिक किया। वहीं विलंब से आने पर एक शिक्षक को आधे दिन का अवैतनिक करने के निर्देश दिये। आंगनबाडि़यों की सतत् मॉनीटरिंग ना करना सेक्टर सुपरवाईजर को भी भारी पड़ा। कलेक्टर श्री गढ़पाले ने सेक्टर सुपरवाईजर को एक वेतन वृद्वि रोकने का शोकाज नोटिस जारी करने के आदेश दिये।
एक को पूरे तो एक को आधे दिन का किया अवैतनिक
अपने विजिट की शुरुआत कलेक्टर ने शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भैंसवाही से की। यहां आकस्मिक रुप से पहुंचकर कलेक्टर ने क्लास रुमों में विद्यार्थियों से चर्चा कर जहां उनकी जिज्ञासाओं का समाधान किया। वहीं समस्यायें भी जानी। विद्यालय में एक शिक्षिका के बिना आवेदन अनुपस्थित रहने पर उन्होने जहां शिक्षिका को एक दिन का अवैतनिक करने के निर्देश दिये। वहीं विलंब से आने पर प्राचार्य को आधे दिन का अवैतनिक करने के।
ज्ञान सेतु की तैयारियों का लिया जायजा
हायर सकेंडरी स्कूल भैंसवाही में एसीसी ज्ञान सेतु प्रोजेक्ट के लिये की गई तैयारियों का जायजा भी अपने दौरे में कलेक्टर ने लिया। उन्होने कैमेस्ट्री का वीडियो लेक्चर प्ले कर विद्यार्थियों के साथ ग्रुप डिस्कशन भी किया। इस दौरान विद्यार्थियों ने वीडियो लेक्चर के इस प्रयास को सराहा भी। विद्यार्थियों ने कहा कि सरहमारे स्कूल में शिक्षकों की कमी है। अब वीडियो देखकर भी हम सब्जेक्ट तैयार कर सकते हैं।
बच्चों का पढ़ाया एन्वायरमेंन्टर साइंस
कक्षा 9वीं में कलेक्टर ने खुद चॉक उठाकर विद्यार्थियों को एन्वायरमेन्टल साईंस का पाठ पढ़ाया। उन्होने प्रकृति और प्राकृतिक में क्या अंतर है,इसे भी उन्हें विस्तार से बताया। साथ ही इस विषय से जुड़े विद्यार्थियों के प्रश्नों के जवाब भी दिये। कलेक्टर ने प्राचार्य और शिक्षकों को सतत् रुप से क्लासेस कराने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि विद्यार्थियों द्वारा बताया गया है कि कम छात्र होने पर शिक्षक क्लास नहीं लेते। यह बिलकुल बर्दाश्त करने योग्य नहीं है। यदि एक भी विद्यार्थी क्लासरुम में होतो निर्धारित समय पर  पीरियड लगना ही चाहिये।
स्वसहायता समूह को हटायासेक्टर सुपरवाईजर को थमाया शोकाज
भैंसवाही के ही आंगनबाड़ी केन्द्र क्रमांक 64/2 में 4 जुलाई को स्वसहायता समूह द्वारा एमडीएम और नाश्ता ना मुहैया कराने की बात आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने बताई। विजिट में यह बात भी सामने आई कि बुधवार को भी दोपहर बजे तक बच्चों को नाश्ता नहीं मिला है। जिसे गंभीरता से लेते हुये कलेक्टर ने एसडीएम को संबंधित स्वसहायता समूह को हटाने के निर्देश दिये। आंगनबाड़ी की सतत् मॉनीटरिंग ना करने और रजिस्टरों का संधारण ना होना भी विजिट में उजागर हुआ। जिस पर सेक्टर सुपरवाईजर को एक वेतनवृद्वि रोकने संबंधी शोकाज नोटिस जारी करने के निर्देश कलेक्टर श्री गढ़पाले ने दिये।
प्रोजेक्ट की तैयारियों का लिया जायजा
अपने दौरे मे कलेक्टर ने शासकीय हाई स्कूल देवसरी इंदौर और शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला बरहटा में भी ज्ञान सेतु प्रोजेक्ट की तैयारियों का जायजा लिया। साथ ही उन्होने जिन विषयों के शिक्षक उपलब्ध नहीं हैंउनका कालखण्ड बनाकर ज्ञान सेतु प्रोजेक्ट के तहत प्राप्त वीडियो लेक्चर के माध्यम से विद्यार्थियों की क्लास लगवाने के निर्देश दिये।
छात्रावास की साफ-सफाई को सराहा। बालिका छात्रावास बरहटा में साफ-सफाई कलेक्टर को अपने विजिट में बहुत रास आई। इस पर उन्होने वॉर्डन और सहायक वॉर्डन की सराहना की। पूरे छात्रावास परिसर का भी कलेक्टर ने निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होने छात्रावास की साफ-सफाई के फोटोग्राफ करवाकर जिलास्तरीय समीक्षा बैठक में उसका प्रजेन्टेशन कराने के निर्देश दिये। इसके साथ ही दौरे में कलेक्टर ने टिकरिया में आंगनबाड़ी केन्द्र, माध्यमिक शाला देवसरी में एमडीएम और माध्यमिक शाला बरहटा में जाकर भी व्यवस्थायें देखीं।

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.